धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शनिवार, 11 मई 2013

आतंक एवं हिंसा के साए में पाकिस्तान में मतदान आज

लंबे समय तक सैन्य शासन के साये में रहे और पिछले कई वर्षों से आतंकवाद एवं हिंसा का सामना कर रहे पाकिस्तान के करोड़ों लोग आज अपनी अगली लोकतांत्रिक सरकार चुनने के लिए मतदान करेंगे। नेशनल
एसेंबली के साथ ही पाकिस्तान के चार प्रांतों की एसेंबलियों के लिए भी मतदान होगा। इस बार के चुनाव प्रचार के दौरान तालिबान के हमलों में 100 से अधिक लोग मारे गए हैं।
इसी साल मार्च में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के नेतृत्व वाली सरकार के पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद 11 मई को चुनाव कराने का ऐलान हुआ था।
पाकिस्तान की तारीख में यह पहला मौका होगा जब चुनाव के जरिए सत्ता का हस्तांतरण एक लोकतांत्रिक सरकार से दूसरी लोकतांत्रिक सरकार के हाथों में होगा। 11 मई को मतदान खत्म होने के बाद ही मतगणना शुरू हो जाएगी और सभी नतीजे आने में एक सप्ताह से अधिक का समय लग जाएगा।
पाकिस्तानी संसद के निचले सदन नेशनल एसेंबली में कुल 342 सदस्य होते हैं, लेकिन यहां के संविधान के मुताबिक 272 सीटों पर ही प्रत्यक्ष चुनाव होता है और 60 सीटें महिलाओं तथा 10 सीटें अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित होती हैं। विभिन्न दलों को प्रत्यक्ष चुनाव से मिली सीटों के अनुपात में ही विभिन्न दलों को ये आरक्षित 70 सीटें आवंटित कर दी जाती हैं। सरकार बनाने के लिए किसी भी राजनीतिक दल या गठबंधन को कम से कम 172 सीटें हासिल करना जरूरी है।
इस बार के चुनाव में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने की संभावना है। ऐसी स्थिति में अगर शरीफ धार्मिक, राष्ट्रवादी और दक्षिणपंथी दलों को साथ लाने में कामयाब होते हैं, तो वह तीसरी बार प्रधानमंत्री बनेंगे।
राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी और भुट्टो परिवार की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) तथा क्रिकेट के मैदान से सियासत में आये इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ भी इस चुनाव में पूरी ताकत लगा रही है। हाल ही चुनाव सभा के दौरान गिरने से घायल हुए इमरान ने अस्पताल से लोगों को उनकी पार्टी के लिए मतदान करने की अपील की है।
इन प्रमुख दलों के अलावा पीएमएल-क्यू, जमात-ए-इस्लामी और अवामी नेशनल पार्टी सरीखे दल भी अपनी ताकत को मजबूत करने के प्रयास में हैं।
इस बार नेशनल एसेंबली के लिए 4,670 उम्मीदवार मैदान में हैं तो चार प्रांतों की एसेंबलियों के चुनाव में करीब 11,000 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो जरदारी ने एक भी चुनावी सभा को संबोधित नहीं किया। वह सिर्फ वीडियो संदेश के जरिए प्रचार कर रहे थे।
पाकिस्तान में पिछला आम चुनाव 18 फरवरी, 2008 को हुआ था। उस समय पीपीपी को 35.3 फीसदी मत के साथ 121 सीटें मिली थीं। दिसंबर, 2007 में बेनजीर भुट्टो की हत्या के बाद सहानुभूति के माहौल में पार्टी ने जीत दर्ज की थी और उसके नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनी। पिछली बार पीएमएल-एन को 91 सीटें और 26.6 फीसदी मत मिले थे। इमरान की पार्टी ने पिछले चुनाव में हिस्सा नहीं लिया था।
इस बार भ्रष्टाचार, आतंकवाद और जातीय हिंसा कुछ ऐसे मुद्दे हैं जो पीपीपी की राह में रोड़ा बन सकते हैं। वैसे इस बार के चुनावों से कश्मीर मुद्दा नदारद है।
इन चुनावों में इमरान खान की पार्टी भी लोगों के बीच खासी लोकप्रिय नजर आ रही है और माना जा रहा है कि वह पीपीपी और पीएमएल-एन को कड़ी टक्कर देगी। चुनाव पूर्व सर्वेक्षणों में भी तहरीक-ए-इंसाफ की ताकत में बेतहाशा बढ़ोतरी बताई जा रही है।
भुट्टो परिवार के नेतृत्व में पीपीपी का सबसे अधिक जनाधार सिंध प्रांत में हैं तो नवाज शरीफ की पीएमएल-एन पंजाब प्रांत में अधिक मजबूत है। इमरान खान की पार्टी ने पंजाब और खबर पख्तूनख्वाह में बड़ी तेजी से अपना आधार बनाया है। पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गयी है और ऐसे में उनकी पार्टी आल पाकिस्तान मुस्लिम लीग ने चुनाव का बहिष्कार करने का फैसला किया है।
नेशनल एसेंबली की सबसे अधिक सीटें पंजाब प्रांत में हैं। पंजाब में 183 सीटें हैं जिनमें से 148 पर प्रत्यक्ष चुनाव होता है और 35 सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। सिंध प्रांत में 75 सीटें हैं जिनमें से 61 पर प्रत्यक्ष चुनाव होता है और 14 सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं।
खबर पख्तूनख्वाह में नेशनल एसेंबली की 43 सीटें हैं। इनमें से 35 पर प्रत्यक्ष चुनाव होता है और आठ सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। बलूचिस्तान में कुल 17 सीटें हैं जिनमें से 14 पर प्रत्यक्ष चुनाव होता है और तीन सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित हैं।फाटा में 12 और संघीय राजधानी में दो सदस्य नेशनल एसेंबली के लिए चुने जाते हैं। पूरे देश में 10 सीटें अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित हैं।
पाकिस्तान में कुल 8 करोड़, 61 लाख से अधिक मतदाता नेशनल और प्रांतीय एसेंबलियों के 1000 से अधिक सदस्यों का चुनाव करेंगे।
नेशनल एसेंबली के साथ ही पंजाब, सिंध, खबर पख्तूनख्वाह और बलूचिस्तान प्रांतों की एसेंबलियों के लिए भी चुनाव होगा। पंजाब में प्रांतीय एसेंबली की 371, सिंध में 168, खबर पख्तूनख्वाह में 124 और बलूचिस्तान में 65 सीटें हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।