धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 11 मई 2017

IRCTC ने टिकटों की होम डिलीवरी शुरू कीः घर बैठे आ जाएगा आपका ट्रेन टिकट


नव-बिहार न्यूज नेटवर्क (NNN), नईदिल्ली: भारतीय रेल की आधिकारिक टिकट बुकिंग वेबसाइट आईआरसीटीसी ने एक नई पहल शुरू की है जिससे यात्रियों के लिए रेल यात्रा और आसान होने की उम्मीद है. आईआरसीटीसी (इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन) ने रेल टिकटों को घर पर पहुंचाने यानी होम डिलीवरी की व्यवस्था शुरू की है जिसमें यात्री कैश समेत दूसरे किसी भी तरीके से टिकट का पेमेंट कर सकते हैं.

इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉपरेरेशन ने ग्राहक सेवा का विस्तार करते हुए टिकट मिलने पर पेमेंट की सेवा शुरू की है जिसमें यात्री ऑनलाइट ट्रेन टिकट बुक कर सकते हैं और टिकट मिलने पर पैसा दे सकते हैं. तो अब से अगर आप घर बैठे ट्रेन का टिकत मंगाना चाहते हैं तो आराम से मंगाए. बस इसके लिए आपको डिलीवरी चार्ज देने होंगे. आईआरसीटीसी के मुताबिक फिलहाल ये सर्विस 4,000 पिन कोड वाले शहरों में लागू की गई है.

आईआरसीटीसी के पे-ऑन-डिलिवरी (पीओडी) सिस्टम के तहत घर बैठे टिकट हासिल करने के लिए एक लिमिट से ऊपर चार्ज भी हैं. अगर आप 5000 रुपये तक की टिकट बुक कराते हैं तो इसके लिए आपको 90 रुपये का चार्ज देना होगा और इससे ऊपर की राशि के लिए आपको 120 रुपये का डिलीवरी चार्ज देना पड़ सकता है.

ऐसे लें इस सुविधा का फायदा !

आईआरसीटीसी की पे ऑन डिलीवरी स्कीम के तहत यात्रा से कम-से-कम पांच दिन पहले टिकट बुक कराना होगा.इस सुविधा के लिए पहली बार रजिस्ट्रेशन कराना होगा और इस रजिस्ट्रेशन के वक्त पैन कार्ड के साथ-साथ आधार कार्ड नंबर भी देना होगा.रजिस्‍ट्रेशन कराने के बाद आईआरसीटीसी की वेबसाइट या मोबाइल ऐप से कभी भी टिकट बुक कराया जा सकेगा.

आईआरसीटीसी के एक सीनियर ऑफिसर ने कहा कि आईआरसीटीसी ने अपनी वेबसाइट और मोबाइल एप के जरिये पे-ऑन-डिलिवरी (पीओडी) की शुरूआत की है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।