धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 20 जुलाई 2017

देश को अब तक मिल चुके हैं 13 राष्ट्रपति, 14 वें हैं रामनाथ कोविंद

नईदिल्ली : हमारे देश भारत में राष्ट्रपति देश का सबसे सर्वोच्च पद और तीनों भारतीय सेनाओं का प्रमुख होता है तथा भारत का प्रथम नागरिक जाना जाता है. भारत की स्वतंत्रता से अब तक
13 राष्ट्रपति चुनाव हुए जिसमें 13 व्यक्ति भारत के राष्ट्रपति चुने गये और छोटे अंतराल के लिये तीन कार्यकारी राष्ट्रपति हुए. आज देश के 14 वें राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद चुने गये. आइये जानते हैं देश के अब तक के राष्ट्रपतियों के बारे में.
प्रणव मुखर्जी 13वें राष्ट्रपति
रामनाथ कोविंद, प्रणव मुखर्जी के कार्यकाल पूरा होने पर चुने गये. प्रणव मुखर्जी देश के 13वें राष्ट्रपति रहे हैं.  25 जुलाई 2012 को इन्होंने भारत के 13वें के रुप में कार्यभार संभाला. राष्ट्रपति बनने से पहले ये कैबिनेट मंत्री के तौर पर वित्त, रक्षा, विदेशमंत्री का कार्यभार संभाल चुके थे. साथ ही योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रहे. असल में इनका संबंध पश्चिम बंगाल से है और वो पहले बंगाली है जो राष्ट्रपति के पद पर आसीन हुए थे.

प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेन्द्र प्रसाद रहे. इन्होंने दो बार राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभाला.  राजनीतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस की और से डॉ राजेन्द्र प्रसाद 26 जनवरी 1950 से 13 मई 1962 तक राष्ट्रपति रहे.
 दूसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
स्वतंत्र भारत दूसरे राष्ट्रपति बने डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन. इन्होंने 13 मई 1962 से 13 मई 1967 तक राष्ट्रपति के रुप में देश की सेवा की. इनके जन्म दिवस (5 सितंबर) को पूरे देश में अध्यापक दिवस के रुप में मनाया जाता है.

तीसरे राष्ट्रपति ज़ाकिर हुसैन 
ज़ाकिर हुसैन भारत के तीसरे राष्ट्रपति बने. इन्होंने भारत के राष्ट्रपति के तौर पर 13 मई 1967 से 3 मई 1969 तक राष्ट्र की सेवा की. वो भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति के रुप में भी जाने जाते हैं. डॉ ज़ाकिर हुसैन बिहार के गर्वनर (1957 से 1962) और देश के उपराष्ट्रपति (1962 से 1967) भी रहे.
चौथे राष्ट्रपति वी.वी गिरी
वी.वी गिरी एकमात्र कार्यकारी राष्ट्रपति थे जो भारत के कार्यकारी राष्ट्रपति और फिर बाद में राष्ट्रपति बने. 24 अगस्त 1969 से 24 अगस्त 1974 तक उन्होंने भारत के चौथे राष्ट्रपति के रुप में देश की सेवा की. इसके अलावा वो केरल (1 जुलाई 1960 से 2 अप्रैल 1965) और उत्तर प्रदेश (10 जून 1956 से 30 जून 1960) के भी राज्यपाल रहे.
पाँचवे राष्ट्रपति फ़ख़रुद्दीन अली
फ़ख़रुद्दीन अली अहमद भारत के पाँचवे राष्ट्रपति बने और 24 अगस्त 1974 से 24 अगस्त 1977 तक देश की सेवा की. डॉ ज़ाकिर हुसैन के बाद फ़ख़रुद्दीन अली अहमद भारत के दूसरे मुस्लिम राष्ट्रपति बने. अपने कार्यकाल को पूरा करने से पहले ही 11 फरवरी 1977 को इनकी मृत्यु हो गई. (ये दूसरे राष्ट्रपति हुए जिनकी मृत्यु अपने कार्यालय में हुई).
छठे राष्ट्रपति नीलम संजीवा रेड्डी
नीलम संजीवा रेड्डी भारत के छटवें राष्ट्रपति थे और इन्होंने 25 जुलाई 1977 से 25 जुलाई 1982 तक राष्ट्रपति के तौर पर देश की सेवा की. ये देश के सबसे युवा राष्ट्रपति थे. साथ ही ये आंध्र प्रदेश (1 नवंबर 1956 से 11 जनवरी 1960) के पहले मुख्यमंत्री भी बने.
सातवें राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह
भारत के सातवें राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह का कार्यकाल 25 जुलाई 1982 से 25 जुलाई 1987 तक रहा. इन्होंने 1972 में पंजाब के काँग्रेसी मुख्यमंत्री, गृह मंत्रालय (14 जनवरी 1980 से 22 जून 1982) और गुट-निरपेक्ष आंदोलन (12 मार्च 1983 से 6 सितंबर 1986) के महासचिव तौर पर भी देश की सेवा की.
आठवें राष्ट्रपति रामास्वामी वेंकटरमन 
भारत के आठवें राष्ट्रपति के रुप में रामास्वामी वेंकटरमन ने 25 जुलाई 1987 से 25 जुलाई 1992 तक देश की सेवा की. इन्होंने भारत के उपराष्ट्रपति (20 अगस्त 1982 से 27 जुलाई 1987), गृह-मंत्रालय (22 जून 1982 से 2 सितंबर 1982), रक्षा मंत्रालय (15 जनवरी 1982 से 2 अगस्त 1984) और वित्त मंत्रालय (14 जनवरी 1980 से 15 जनवरी 1982) के तौर पर भी राष्ट्र की सेवा की.
नौवें राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा
भारत के नौवें राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा का कार्यकाल 25 जुलाई 1992 से 25 जुलाई 1997 तक रहा. राष्ट्रपति के अलावा इन्होंने भारत के उपराष्ट्रपति (3 सितंबर 1987 से 25 जुलाई 1992) भी रहे.
दसवें राष्ट्रपति के.आर.नारायण
भारत के दसवें राष्ट्रपति कोचेरिल रमन नारायण का कार्यकाल 25 जुलाई 1997 से 25 जुलाई 2002 तक था. के.आर.नारायण ने राष्ट्रपति के साथ ही भारत के उपराष्ट्रपति (21 अगस्त 1992 से 24 अगस्त 1997) के रुप में भी भारत की सेवा की. वो थाईलैंड, चाईना, तुर्की, और अमेरिका में भारत के दूत भी रह चुके थे.
 11वें राष्ट्रपति ए.पी.जे अब्दुल कलाम
भारत के 11वें राष्ट्रपति ए.पी.जे अब्दुल कलाम थे जिन्होंने 25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक देश की सेवा की. कलाम साहब का संबंध राजनीति से नहीं था बल्कि वो एक वैज्ञानिक थे और डी.आर.डी.ओ. एवं इसरो में विज्ञान प्रशासक रहे. उन्हें भारत का ‘मिसाईल मैन’ भी कहा जाता था क्योंकि वो भारत के नागरिक अंतरिक्ष कार्यक्रम और सैनिक मिसाइल विकास प्रयास से जुड़े थे. भारत रत्न (1997) से सम्मानित कलाम साहब को लोगों का राष्ट्रपति भी कहा जाता है. इसके अलावा इन्हें पद्म विभूषण (1990) और पद्म भषण (1981) तथा कई सम्मानों से नवाज़ा जा चुका है. शिलाँग आईआईएम में लेक्चर देने के दौरान इनका निधन 27 जुलाई 2015 को हुआ.
बारहवें राष्ट्रपति के रूप में प्रतिभा देवी सिंह पाटिल
देश के 12 वें राष्ट्रपति के रूप में प्रतिभा देवी सिंह पाटिल को भारत की पहली महिला राष्ट्रपति साथ ही राजस्थान की पहली महिला राज्यपाल (8 नवंबर 2004 से 23 जून 2007) होने का गौरव भी हासिल है. इनका कार्यकाल 25 जुलाई 2007 से 25 जुलाई 2012 रहा.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।