धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 31 जुलाई 2017

भूकंप के लिहाज से दिल्ली समेत 9 राज्यों के 29 सिटी ज्यादा सेंसेटिव

नई दिल्ली. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (एनसीएस) की रिपोर्ट के मुताबिक देश के 29 शहर और कस्बे भूकंप के लिहाज से अति संवेदनशील हैं। इनमें दिल्ली और 9 राज्यों की राजधानी भी शामिल हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि ये शहर और कस्बे गंभीर से बहुत गंभीर भूकंपीय क्षेत्रों में आते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इन 29 जगहों में से ज्यादातर हिमालय में हैं, जो भूकंप के लिहाज से दुनिया में सबसे ज्यादा सक्रिय क्षेत्र हैं। 

ये शहर सिस्मिक जोन में...
- रिपोर्ट में दिल्ली, पटना (बिहार), श्रीनगर (जम्मू-कश्मीर), कोहिमा (नगालैंड), पुड्डुचेरी, गुवाहाटी (असम), गंगटोक (सिक्किम), शिमला (हिमाचल प्रदेश), देहरादून (उत्तराखंड), इम्फाल (मणिपुर) और चंडीगढ़ को सिस्मिक जोन (भूकंपीय क्षेत्रों) 4 और 5 की कैटेगिरी में रखा गया है।
- इन शहरों की कुल जनसंख्या 3 करोड़ से ज्यादा है। इस लिहाज से ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि भूकंप आने पर यहां कितनी जनहानि हो सकती है।

सिस्मिक जोन 2 से5 में बांटे गए क्षेत्र
- एनसीएस के डायरेक्टर विनीत गहलौत ने कहा, "ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स ने देश के अलग-अलग क्षेत्रों को सिस्मिक जोन 2 से लेकर 5 तक में बांटा है। बीआईएस ने ये वर्गीकरण  भूकंप के आंकड़ों, टेक्टॉनिक गतिविधियों और नुकसान को मद्देनजर रखकर किया है।

सिस्मिक जोन 5 में बिहार, उत्तराखंड, हिमाचल भी
- सिस्मिक जोन 2 में सबसे कम भूकंपीय क्षेत्र वाले शहरों जबकि जोन 5 में सबसे ज्यादा भूकंपीय क्षेत्र वालों शहरों को रखा गया है। जोन 4 और 5 में गंभीर से बहुत गंभीर भूकंपीय क्षेत्रों वाले शहरों को रखा गया है।
-सिस्मिक जोन 5 में देश का पूरा नॉर्थ-ईस्टर्न इलाका जैसे- जम्मू-कश्मीर के हिस्से, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, गुजरात में रण का कच्छ, नॉर्थ बिहार के हिस्से और अंडमान-निकोबार द्वीपसमूह शामिल हैं। इनके अलावा जोन 5 में ही दिल्ली, सिक्किम, नॉर्दर्न यूपी, वेस्ट बंगाल, गुजरात और महाराष्ट्र का एक छोटा हिस्सा भी आता है।

-भुज (जहां 2001 में आए भूकंप में 20 हजार लोग मारे गए थे), चंडीगढ़, अंबाला, अमृतसर, लुधियाना और रूड़की को जोन 4 और 5 दोनों में रखा गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।