धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

बुधवार, 19 जुलाई 2017

अनुकरणीय: बिहार का गौरव बनी पटना की स्वाति

मां के सुसाइड ने बना दिया राइटर, 2 बुक लिख चुकी, तीसरी की है तैयारी

राजेश कानोडिया, भागलपुर: 'आज से 10 साल पहले तक जो लोग यह कहा कहते थे कि राइटिंग में कोई स्कोप नहीं, आज वे पटना की स्वाति पर प्राउड फील कर रहे हैं.’
आपको बता दें कि
स्वाति को अभी मलेशिया में इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑफ सुसाइड प्रिवेंनशन में प्रेजेंटेशन के लिए बुलाया गया है. वह भले कहती हों कि यह मेरे लिए गर्व की बात है लेकिन वास्तव में यह पटना ही नहीं बिहार के लिए भी गर्व की बात है.
जिंदगी अगर कुछ देती है तो अक्सर बहुत कुछ छीन भी लेती है. स्वाति की उम्र तो है बस 27 साल लेकिन इतनी—सी जिंदगी में उसने कुदरत की तमाम चुनौतियों को स्वीकार किया है और जीता भी है. शायद जीना इसी का नाम है. लेकिन आदमी हमेशा जीतता ही है, ऐसा भी नहीं है. कुछ ऐसा हुआ कि इनकी हिम्मत भी जवाब दे गयी. जब इसने अपनी मां को खो दिया, हमेशा हमेशा के लिए.
जी हां, यह कहानी है पटना स्थित कंकड़बाग़ की रहनेवाली स्वाति की. उनकी मां ने सुसाइड कर अपनी जिंदगी समाप्त कर ली थी. इस बात को याद कर अक्सर उनकी टीस और भी बढ़ने लगती थी. लेकिन कहते हैं न कि एक छोटी—सी चिंगारी ही ज्वाला धधकाने के लिए काफी होती है. इसी टीस ने स्वाति को अल्पवय में ही लेखिका बना दिया. आज स्वाति को न सिर्फ इंडिया में बल्कि मलेशिया में भी अलग—अलग विषयों पर प्रेजेंटेशन के लिए बुलाया जा रहा है.
बेंगालुरु से MBA और फ्रांस से इंटरनेशनल मैनेजमेंट का कोर्स करने के बाद स्वाति ने लेखन की तरफ अपने करियर को मोड़ दिया. ‘विद आउट ए गुडबाय’ और ‘अमायरा’ लिखने के बाद इन्होंने सामाजिक मुद्दे पर अब तीसरी बुक लिखनी शुरू कर दी है.

मलेशिया जाने के पहले एक रिपोर्टर ने लेखिका स्वाति से मुलाकात की और उनके मन को टटोलने की कोशिश भी. स्वाति बताती हैं कि मेरी पहली बुक ‘विथआउट ए गुडबाय’ मेरी मां को डेडीकेटेड है. आखिर क्या है इस बुक की थीम? स्वाति कहती हैं, ‘इस बुक में मैंने सोसाइटी में विमेंस की स्थिति को ध्यान में रख कर लिखा है. आगे वह बताती हैं कि आज के युवा जिंदगी की लड़ाई में बहुत जल्द हार मान लेते हैं और डिफिट, डिप्रेशन और फिर सुसाइड,’ के स्टेज में चले जाते हैं.
सुसाइड प्रिवेंशन पर आधारित उनकी दूसरी बुक ‘अमायरा’ एक फोटो स्टोरी बुक है. सौरव अनुराज मियाउ स्टूडियो द्वारा बेहतरीन फोटोग्राफी कर स्टोरी क्रिएट किया गया है. इस बुक को रियल लाइफ की घटनाओं से जोड़ते हुए लिखा गया है. सबसे खास बात यह है कि इस बुक में जितने भी कैरेक्टर लिए गए हैं, वे सभी पटना से हैं और इसकी पूरी शूट भी बिहार में ही हुई है. इस बुक को लिखने के पीछे की मंशा बताते हुए स्वाति कहती हैं कि न जाने लोग डिप्रेशन को सीरियसली क्यों नहीं लेते हैं! वह बताती हैं कि WHO के डाटा के अनुसार, हर साल आठ लाख लोगों को मौत डिप्रेशन की वजह से होती है.
इस बुक को लिखने के पीछे एक खास प्रयोजन यह भी था कि लोगों में इसके प्रति अवेयरनेस आए. इस बुक के जरिये वह यंग जेनरेशन को मैसेज देती हैं कि सक्सेस और फेल्योर तो पार्ट ऑफ लाइफ है. पॉजिटिव रहकर और होप रखकर इसपर आसानी से काबू पाया जा सकता है.
आखिर वह अपना Achievement क्या मानती हैं? स्वाति कहती हैं कि Achievement तो वह होता है जिसे देखकर आपके परिवार वालों की आंखें भर आये और वे आपसे कहें कि आपने घर का नाम रोशन किया है. मेरे परिवार ने मुझे एक राइटर के रूप में खुशी—खुशी एक्सेप्ट कर लिया. यही मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि है, मेरा सबसे बड़ा Achievement है.
‘आज से 10 साल पहले जो यह कहा कहते थे कि राइटिंग में कोई स्कोप नहीं, आज वे मुझ पर प्राउड फील कर रहे हैं.’
आपको बता दें कि स्वाति को अभी मलेशिया में इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑफ सुसाइड प्रिवेंनशन में प्रेजेंटेशन के लिए बुलाया गया है. वह भले कहती हों कि यह मेरे लिए गर्व की बात है लेकिन वास्तव में यह पटना और बिहार के लिए भी गर्व की बात है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।