धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 10 अगस्त 2017

बड़ी खबर: बिहार के मुख्य सचिव पर भड़का सुप्रीम कोर्ट, जानें क्या क्या था मामला

लाइव सिटीज डेस्क : देश के सर्वोच्च न्यायालय ने बिहार के चीफ सेक्रेटरी अंजनी कुमार सिंह को फटकार लगाई गई है. यह फटकार किसी कार्य में लापरवाही के लिये नहीं
लगाई है. और न ही यह फटकार बिहार के विकास कार्य में धीमी गति को लेकर है. बल्कि सुप्रीम कोर्ट ने यह फटकार अंजनी कुमार सिंह के पहनावे को लेकर लगाई है. कोर्ट ने उन्हें कार्रवाई के दौरान जरूरी शिष्टाचार का उल्लंघन करने के लिए कड़ी फटकार लगाई और सुनवाई अगले दिन के लिए स्थगित कर दी.
दरअसल, मंगलवार को 1981 बैच के आईएएस अधिकारी अंजनी कुमार सिंह को जस्टिस जे चेलेमेश्वर और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की बेंच ने समन किया था. सुप्रीम कोर्ट ने उनसे बिहार सरकार की तरफ से संपत्ति विवाद पर अपील दायर करने में 4 साल और 23 दिनों की देरी करने पर स्पष्टीकरण मांगा था. अंजनी कुमार सिंह इनफॉर्मल ड्रेस में ही सुप्रीम कोर्ट में पेश हो गए. वे ट्राउजर्स पहन कर जज के सामने खड़े थे. जिस पर सुप्रीम कोर्ट के जज बिगड़ गए. उन्होंने अंजनी कुमार सिंह को खूब लताड़ा. साथ ही उनके इस पहनावे से नाराज हो कर सुनवाई भी स्थगित कर दी.बाद में कोर्ट ने मामले की सुनवाई स्थगित करते हुए उन्हें बुधवार को फॉर्मल  ड्रेस  में आने के लिए कहा. ब्लैक रंग के ट्राउजर्स और बंदगला कोट पहने हुए सिंह ने ड्रेस कोड का पालन नहीं करने के लिए कोर्ट से बेशर्त माफी मांग ली. हालांकि बेंच का गुस्सा फिर भी कम नहीं हुआ  और उन्होंने अंजनी कुमार से पूछा कि क्या वह अपने पॉलिटिकल बॉस का भी ऐसे ही अपमान करते हैं.
कोर्ट ने कहा कि सरकारी अधिकारियों को न्यायपालिका का भी वैसे ही सम्मान करना चाहिए जैसे वे संवैधानिक पदों पर बैठे अन्य व्यक्तियों का करते हैं. कोर्ट ने पूछा, ‘क्या आप बता सकते हैं कि आप अपने सीएम के साथ कैसा बर्ताव करते हैं? क्या आप इस तरह के पहनावे में सीएम से मुलाकात करने पहुंच जाते हैं? अगर नहीं तो फिर आप कोर्ट में इस तरह के कपड़ों में कैसे आ सकते हैं? देश की सर्वोच्च अदालत में आने का यह कोई तरीका नहीं है.’

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।