धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

बुधवार, 2 अगस्त 2017

तिलकामांझी भागलपुर विवि के दो पूर्व पदाधिकारियों पर गिरी गाज

भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ नलिनी कांत झा के निर्देश से दो शिक्षकों पर ट्रांसफर की गाज गिरी है। कुलपति ने सिंडिकेट की बैठक के आलोक में यह निर्देश दिया है।

पूर्व इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज (साइंस) सहित विवि के विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके डॉ. अशोक ठाकुर का ट्रांसफर केकेएम कॉलेज, जमुई कर दिया गया है। डॉ. ठाकुर को पूर्व कुलपति डॉ. प्रेमा झा के कार्यकाल में केकेएम कॉलेज का प्राचार्य बनाया गया था। प्राचार्य के पद से हटने के बाद भी उन्हें जमुई में बतौर शिक्षक रखा गया था। पूर्व कुलपति डॉ. अंजनी कुमार के आदेश पर उन्हें केकेएम कॉलेज से मदन अहिल्या महिला महाविद्यालय, नवगछिया ट्रांसफर कमेटी की प्रत्याशा में ट्रांसफर किया गया था। डॉ. रमा शंकर दुबे ने डॉ. ठाकुर को पूर्व इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज (साइंस) बनाया था। साथ ही बीएन कॉलेज में डेपुटेशन किया गया था। वर्तमान कुलपति ने उन्हें विवि का पीआरओ बनाया था। लेकिन पटना उच्च न्यायालय की सूचना को आगे नहीं बढ़ाने के कारण कोर्ट ने डॉ. ठाकुर पर कार्रवाई करने का आदेश दिया था। विवि ने इसके बाद उनसे लीगल का काम ले लिया, लेकिन वे पूर्व इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज (साइंस) बने रहे। छात्र आंदोलन के बाद विवि ने उन्हें कॉलेज की जगह पीजी जंतु विज्ञान विभाग भेज दिया। अब विवि ने हाई कोर्ट के आदेश के आलोक में डॉ. ठाकुर को पीजी से केकेएम कॉलेज जमुई स्थानांतरित कर दिया है।

वहीं, रिसर्च विभाग के पूर्व ओएसडी डॉ. निरंजन यादव का स्थानांतरण पीबीएस कॉलेज बांका किया गया है।
डॉ. यादव ने सोमवार को ओएसडी के पद से त्यागपत्र दे दिया था। डॉ. यादव की नियुक्ति 2003 में मगध विवि में हुई थी। 2007-08 में उनका ट्रांसफर तिलकामांझी भागलपुर विवि के पीबीएस कॉलेज बांका में हुआ था। पूर्व कुलपति डॉ. विमल कुमार ने 2012 में डॉ. यादव का ट्रांसफर पीबीएस कॉलेज से टीएनबी कॉलेज के मनोविज्ञान विभाग में कर दिया था। वे कुछ वर्षो से ओएसडी रिसर्च के पद पर कार्यरत थे। डॉ. यादव पर आरोप है कि खुद प्रत्याशी रहते हुए उन्होंने प्रोन्नति को लेकर बुलाए गए एक्सपर्ट का सेवा-सत्कार किया। विवि से एक लाख से अधिक रुपये लेकर एक्सपर्ट के रहने, खाने आदि की व्यवस्था थी। उन्होंने विवि को यह नहीं बताया कि वे खुद उम्मीदवार हैं। इसके लिए विवि ने उन्हें दोषी करार देते हुए ट्रांसफर पीबीएस कॉलेज बांका कर दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।