धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 4 सितंबर 2017

सृजन महाघोटाला: कागजात खंगालने में लगी सीबीआइ, जांच के दायरे में तीन पूर्व डीएम

नव-बिहार समाचार (नस), भागलपुर। सृजन महाघोटाले में शामिल तत्कालीन भू-अर्जन पदाधिकारी राजीव रंजन ने ही बैंक ऑफ इंडिया में खाता खुलवाने का प्रस्ताव दिया था। इस प्रस्ताव पर 14 जुलाई 2014 को तत्कालीन जिलाधिकारी ने अपनी सहमति दी थी। घोटाले में सर्वाधिक राशि की निकासी 2014-15 में ही हुई। इससे जाहिर होता है कि तत्कालीन भू-अर्जन पदाधिकारी की मंशा साफ नहीं थी। जो अभी फरार चल रहा है।

 

तीन जिलाधिकारी जांच के दायरे में

इस महाघोटाले में अब तक तीन जिला अधिकारियों को जांच के दायरे में रखा गया है। इनके नामों का खुलासा नहीं किया गया है। भागलपुर में रहे जिलाधिकारी केपी रमैया भी सृजन के पक्ष में पत्र लिखने के कारण चर्चा में आ गए। इधर, एसआइटी ने सीबीआइ को ऐसे कागजात सौंपे हैं जिससे सीबीआइ टीम के अधिकारी भी हैरान हैं। 

एक जिलाधिकारी को थी भनक

 इस महाघोटाले की भनक भागलपुर में पदस्थापित एक जिलाधिकारी को काफी पहले मिल गई थी, लेकिन उन्होंने मामले को गंभीरता से नहीं दिया। परिणामस्वरूप महाघोटाले में शामिल लोग बेफिक्र होकर सरकारी राशि की हेराफेरी में लगे रहे। यदि उसी समय मामले को गंभीरता से लिया जाता तो शायद इस महाघोटाले का आकार इतना बड़ा नहीं होता।

 

जिलाधिकारियों के कार्यकाल की सौंपी गई सूची

एसआइटी ने 1997 से अबतक यहां पदस्थापित रहे सभी जिलाधिकारियों के कार्यकाल से संबंधित सूची भी तैयार की है। इस सूची को सीबीआइ को सौंपा गया है। एसआइटी ने सृजन कार्यालय से जो डायरी बरामद की है, उसमें कुछ उच्चस्तरीय प्रशासनिक अधिकारियों के नाम भी दर्ज हैं। निजी डायरी में इन अधिकारियों के नाम क्यों दर्ज किए गए हैं, यह भी जांच का विषय है।

सृजन ने खोल रखे थे दो दर्जन से अधिक खाते

सृजन महाघोटाले में शामिल लोगों की मंशा पहले से ही गड़बड़ थी। सृजन ने शहर के अलग-अलग बैंकों में दो दर्जन से अधिक खाते खोल रखे थे। एसआइटी के लिए सभी खातों की जांच कर पाना संभव नहीं था। अब सभी खातों से संबंधित जानकारी सीबीआइ को दी गई है।सीबीआइ इन खातों को खंगालेगी। इसके बाद रहस्य से पर्दा उठ पाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।