धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शनिवार, 30 सितंबर 2017

यहां लगती है गाय के दूध की बोली…

सासाराम (राजेश कुमार) : आम तौर पर गाय के दूध से भैंस के दूध का मूल्य अधिक होता है. पर गाय के दूध की बोली लगने लगे तो अचरज तो होगा ही. उसमें जिसे मिल जा रहा है, वह अपने को सौभाग्यशाली समझ रहा है. हाल के दिनों में दूध की लगने वाली बोली का केंद्र बना है रोहतास के जिला मुख्यालय सासाराम में स्थित श्री कृष्ण गोशाला.

सन 1972 में तब के समाजसेवी स्व. हजारीमल रुंगटा ने 4 एकड़ भूमि मुहैया कराकर इस गोशाले की स्थापना की थी. उस वक्त इसे गोरक्षिणी का नाम दिया गया था. इसके पीछे भाव था परवरिश के बिना छोड़ दी जाने वाली लावारिस गायों की सेवा का. तब खुद के संसाधान से संचालित उक्त स्थान को जिले के किसानों से गाय का चारा (भूसा-पवटा) आसानी से उपलब्ध हो जाया करता था. रुंगटा साहब के निधन के बाद इसकी कमिटी बनाकर श्री कृष्ण गोशाला का नाम दे दिया गया.

कमिटी में स्थानीय एसडीओ अध्यक्ष, चयनित सचिव और अन्य पद धारकों के जिम्मे इसका संचालन होने लगा. काफी दिनों तक सचिव के रूप में इसका संचालन स्व. शिव नारायण सिंह यादव ने किया. तब से चन्दा और थोड़ा बहुत सरकारी मदद से यह गोशाला संचालित होता है. वर्तमान में इसके सचिव बिजेंद्र सिंह और कोषाध्यक्ष संदीप कनोडिया है. करीब 50 गायें है. उनमे गिनती के ही दुधारू है.

हाल के महीनों में पटना राजभवन से एकाएक इस गोशाले के पदधारकों को बुलाकर राजभवन की बीमार दो गायों को ले जाने की जिम्मेदारी मिली. संदीप कनोडिया के अनुसार कहा गया कि इन गायों का दूध तत्कालीन महामहिम रामनाथ कोविंद जी पिया करते थे. उनके राष्ट्रपति बन जाने के बाद ये गायें गंभीर रूप से बीमार हो गयी.

अब इनकी सेवा की आवश्यकता समझते हुए इन्हें श्री कृष्ण गोशाला को सौंपा जा रहा है. कागजी कार्रवाई पूरी कर वे गायों को यहाँ ले आये. गायों को कई जगह घाव हुए थे. खाना नहीं खाने से टूट सी गयी थी. कहते है, सेवा भाव से दो महीने तक उनकी सेवा की गयी. पशुपालन विभाग के स्थानीय चिकित्सों का वांछित सहयोग मिला. अब वे स्वस्थ हो गयी है. थोड़ा बहुत दूध भी दे रही है.

बताते हैं, गोशाला के प्रावधान में गायों का दूध और गोबर की बिक्री का प्रचलन होने से दूध के ग्राहक आने लगे. ग्राहकों को जैसे ही इस बात का पता चला कि इसका दूध वर्तमान में राष्ट्रपति पीते थे. फिर तो ग्राहकों के बीच दूध की बोली लगने लगी. स्थिति यह है कि प्रतीक के तौर पर होने वाले दूध की बोली 50-60 रु प्रति किलो पहुँच जाती है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।