धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 4 सितंबर 2017

रत्ती भर भी खतरा नहीं उठाना चाहते PM, कैबिनेट में बढ़ी बिहार की अहमियत 

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क (NNN): मोदी मंत्रिपरिषद में पुनर्गठन से पहले बिहार के मंत्रियों की संख्या पांच थी जो अब बढ़कर छह हो गई है। दो मंत्री शामिल किए गए हैं तो एक
को बाहर का रास्ता दिखाया गया है।  संदेश साफ है कि बिहार में बेहतर प्रदर्शन की बदौलत ही अपने दम पर लोकसभा चुनाव में पहली बार बहुमत हासिल करने वाली भाजपा इस राज्य को लेकर बेहद सतर्क है।
राज्य से जदयू को विस्तार में जगह न मिलने के बावजूद उसे इस विस्तार में लाभ हासिल हुआ है। राज्य से महज एक मंत्री राजीव प्रताप रूडी को हटाया गया, जबकि दो नए मंत्री आर के सिंह और अश्विनी चौबे को शामिल किया गया है। 
राज्य मंत्री गिरिराज सिंह का कद बढ़ा कर उन्हें लघु एवं मध्यम उद्योग जैसे अहम मंत्रालय की बतौर स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री जिम्मेदारी दी गई है। सिंह को बेहद अहम ऊर्जा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है। निकट भविष्य में अगर जदयू सरकार में शामिल हुआ तो कैबिनेट में बिहार की भागीदारी और बढ़ेगी।
इस पुनर्गठन में नए भारत के निर्माण और मिशन 2019 के बीच संतुलन कायम करने की कोशिश के तहत आर के सिंह और अश्विनी कुमार चौबे को जगह दी गई है। अपनी प्रशासनिक क्षमता और काम से मतलब रखने वाले अधिकारी की छवि के साथ ही वह राजीव प्रताप रूडी की विदाई से खाली हुए ठाकुर चेहरे की कमी को पूरा कर रहे हैं। 
इससे ठाकुर समुदाय को साफ संदेश देने की कोशिश की गई है कि उनकी उपेक्षा नहीं हो रही है। उधर, चौबे के रूप में भाजपा ने राज्य से पहली बार किसी ब्राह्मण को मंत्रिपरिषद में जगह दी है। इसके गहरे राजनीतिक निहितार्थ हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।