धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शनिवार, 23 सितंबर 2017

खास खबर: ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुक कराने वालों को झटका, अब SBI और ICICI बैंकों के कार्ड से बुक नहीं हो सकेंगे रेल टिकट

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क (NNN), नईदिल्ली। रेल टिकट की ऑनलाइन बुकिंग में आईआरसीटीसी ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और आईसीआईसीआई समेत छह बैंकों द्वारा
शुक्रवार को प्रतिबंधित कर दी। अब यात्री केवल एचडीएफसी, इंडियन ओवरसीज बैंक, केनरा बैंक, इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और एक्सिस बैंक के कार्ड से ही ई-टिकट का भुगतान कर सकते हैं।
ये है विवाद 
जानकारी के अनुसार सुविधा शुल्क को लेकर आईआरसीटीसी और बैंकों के विवाद ने अब तूल पकड़ लिया है। आईआरसीटीसी ने इस साल के शुरुआत में बैंकों से सुविधा शुल्क की राशि को बराबर-बराबर बांटने के लिए कहा था। हालांकि बैंकों का आरोप है कि आईआरसीटीसी शुल्क की पूरी राशि खुद ही रखना चाहती है। इस मुद्दे को लेकर भारतीय बैंक एसोसिएशन और आईआरसीटीसी के बीच हुई बातचीत भी बेनतीजा रही।
ई-टिकट की बुकिंग के लिए किए गए ऑनलाइन भुगतान हासिल करने वाले सभी मर्चेंट को एक हिस्सा यानी मर्चेंट डिस्काउंट अमाउंट (एमडीआर) संबंधित बैंक को देना होता है, जिसके कार्ड के जरिए भुगतान होता है। एमडीआर भुगतान राशि के अनुसार तय किया जाता है। बैंकों की ओर से इस मुद्दे पर कहा गया कि सामान्य तौर पर जो मर्चेंट होता है वह संबंधित बैंक को पैसा देता है, लेकिन आईआरसीटीसी ने उन्हें कभी पैसा नहीं दिया, इस वजह से ये राशि ग्राहकों से वसूली जाती रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।