धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शनिवार, 7 अक्तूबर 2017

किऊल में हुआ सिग्नल पैनल ध्वस्त, राजधानी समेत कई ट्रेनें रुकी

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क, किऊल : भारतीय रेलवे की कुव्यवस्था लगातार जारी है. लगातार हो रहे हादसों के बीच रेलवे सिस्टम बेहद लचर हुआ जा रहा है. रेलवे के कुव्यवस्था का आलम यह है कि अब बिहार के किऊल रेलवे स्टेशन पर परिचालन सिग्नल ही ध्वस्त हो गया है. नतीजा है कि राजधानी सहित कई ट्रेनें जहां-तहां फंस गई हैं.

किऊल रेलवे स्टेशन पर अचानक सेन्ट्रल पैनल में शार्ट सर्किट की वजह से ऑपरेटिंग सिग्नल ही ध्वस्त हो गया है. जिसकी वजह से ट्रेन का आवगमन ही ठप पड़ गया है. खास कर डाउन लाइन की सभी गाडियां जहां तहां फंस गई हैं. यात्री बेबस ट्रेन में बैठे परिचालन शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं. सबसे बुरा हाल तो हावड़ा –दिल्ली राजधानी की है. यह ट्रेन किऊल स्टेशन पर फंसी हुई है.

इस घटना के तुरंत बाद रेलवे अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. सिस्टम को जल्द-से जल्द शुरू की जाए इसको लेकर जद्दोजहद जारी है. रेलवे के टेक्निकल टीम के एक्सपर्ट पर भी किऊल स्टेशन पर पहुंच अपने कार्य में जुट चुके हैं. ध्वस्त सिग्नल पैनल को जल्द से जल्द ठीक करने के लिए टीम लगातार कोशिश कर रही है. रेलवे अधिकारियों का कहना है कि यह घटना शार्ट सर्किट होने की वजह से हुई है. इसकी जांच की जा रही है. कमियों को जल्द दुरुस्त कर लेने का दावा भी रेलवे अधिकारी कर रहे हैं.

इधर, यात्रियों का कहना है कि रेलवे सिस्टम अब पूरी तरह फेल है. आये दिन हादसे होते जा रहे हैं. बावजूद इसके रेलवे ऐसे हादसों पर लगाम नहीं लगा पा रहा है. एक यात्री ने कहा कि मज़बूरी है कि हमलोग रेल से यात्रा करते हैं. ऐसा लगता है जैसे जान हथेली पर रख कर ही सफ़र कर रहे हैं. मालूम हो कि ट्रेनों का बेपटरी होना भी बदस्तूर जारी है. रेल मंत्री पीयूष गोयल सब ठीक कर देने का भरोसा बस देते रहे हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।