धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

मातृत्व शक्ति का ध्यान करने से जीवन मे मिलता है मोक्ष-स्वामी आगमानद

बकचप्पर, शाहकुंड (भागलपुर)। स्वामी आगमानंद जी महाराज के सानिध्य मे निकाली गयी कलश शोभा यात्रा के बाद यहां माता देवी की भागवत कथा की भक्ति गंगा बहायी जा रही है। जिसमें भागलपुर जिले के ही नही बल्कि कई राज्यो से भी लोग आकर इस कथा के रस का आनंद ले रहे हैं जैसेः बंगलौर, दिल्ली, राँची, पटना इत्यादि। कल से आरंभ हुई यह कथा लगातार सात दिनो तक चलेगी।

पहले दिन की कथा मे सोमवार को स्वामी जी ने माता की उत्पत्ति, उपासना और अपने जीवन मे इसकी महत्ता को बताया। उन्होने कहा कि इस युग हरि नाम संकिर्तन करने से इस क्षणभंगुर जीवन मे मोक्ष की प्राप्ति होती है और यह शरीर मिट्टी स्वरूप है या ऐसे कहे जिस प्रकार एक ग्लास पानी को उल्टा कर भरे बाल्टी मे रखते हैं तो उससे बुलबुला निकलकर फूटने लगता है ठीक उसी प्रकार हमारा जीवन भी है। इस युग माता की शक्ति के ध्यान के बिना कुछ संभव नही क्योकि जब हम जन्म लेकर माँ के आँचल मे खेलते हैं, Bगोद मे खेलते हैं वही स्वर्ग है क्योकि फिर दुबारा यह आराम हमारे जीवन के क्रम मे कभी नही आता और हर भगवान के नाम के पहले श्री आता है वह” श्री”का मतलब माता है उसे अध्यात्म मे इसी से संबोधित किया जाता है और आदरसूचक तो है ही जैसै-श्री राम, श्री कृष्ण इत्यादि। इसलिए हमारे जीवन से यदि माँ का आँचल स्वरूप चादर हट जाए या उनको अपने जीवन मे याद न करे तो यह जीवन नश्वर स्वरूप माना जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।