धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

बाल विवाह के खिलाफ रंग लाने लगी नीतीश की मुहिम

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बाल विवाह जैसी कुप्रथा के खिलाफ छेड़ी गयी मुहिम अब रंग लाने लगी है. मुख्यमंत्री ने दो अक्टूबर से बिहार में दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ सामाजिक आंदोलन की शुरूआत की है. मुख्यमंत्री के इस अभियान का असर राज्य की बेटियों को हौसला दे रहा है. यही वजह है की बिहार के वैशाली में बीते दो दिनों में तीन नाबालिग बेटियों ने माता-पिता द्वारा लिये गये कम उम्र में शादी के फैसले का न केवल विरोध किया, बल्कि शादी की सभी तैयारियों के बावजूद शादी करने से मना तक कर दिया.

जानकारी के अनुसार गत 5 अक्टूबर को वैशाली जिले के जगन्नाथ बसंता की बेटी गुड़ि‍या ने दरवाजे पर आने वाली बारात को शादी वाले दिन इसलिए लौटा दिया, क्‍योंकि अभी उस की उम्र महज 13 साल की थी और वो आठवीं के आगे की पढ़ाई करना चाहती है. कम उम्र बेटी के इस फैसले के आगे मां-बाप को झुकना पड़ा और समाज के लोगों ने भी गुड़िया का साथ दिया.

गुड़ि‍या ने बताया कि अभी वह आठवी में पढ रही है, मां-पिताजी शादी कर रहे थे, हमने इंकार कर दिया कि अभी पढाई करनी है. बाल विवाह के लिए दहेज एक बहुत बड़ा कारण है. गुड़ि‍या के पिता कहते हैं कि उनकी पांच बेटियां हैं, सबकी शादी करनी है. कम उम्र मे शादी करने से दहेज कम देना पड़ता है, लेकिन बेटी के इंकार करने पर वो भी मान गए. अजय पासवान ने कहा कि बेटी अभी पढना चाहती है.

वहीं, अगले ही दिन वैशाली जिले के देसरी में भी सीएम नीतीश कुमार की बाल विवाह रोकने की मुहिम एक बार फिर रंग लाई है. कुड़वा ग्राम में दो नाबालिक सगी बहनों के बाल विवाह के खिलाफ फैसले के आगे परिवार को झुकना पड़ा और लड़कियों के फैसले में साथ दिया स्थानीय समाज ने.

गांव के रामबाबू पासवान की 13 बर्षीय पुत्री गंगा कुमारी और 12 बर्षीय पुत्री सुनीता कुमारी की शादी करायी जा रही थी. दोनों की शादी को लेकर पूरी तैयारी कर ली गयी थीं. दोनों के लिए दूल्हे बारात लेकर आ चुके थे, घर मे शादी का माहौल परवान पर था. मंगल गीत गाये जा रहे थे.

लेकिन इसी बीच गांव के कुछ बुद्धिजीवी लोगों को जब इसकी भनक लगी, तो गांव वाले इकठ्ठे हुए और प्रशासन को सूचना दी, समझाने-बुझाने का सिलसिला शुरू हुआ. मौके पर चाइल्ड लाइन के प्रतिनिधि भी पहुंचे.  प्रशासन की मदद से बच्चियों के अभिभावकों भी काफी मशक्कत के बाद शादी रोकने के लिए राजी करवा लिया गया.

उसके बाद लड़के वाले बारात लेकर लौट गए, लड़कियों का कहना है कि वो आगे अपनी पढ़ाई पूरा करना चाहती हैं और फिर बालिग होने पर शादी करेगी. इस तरह दोनों नाबालिक लड़कियों की शादी रुक जाने के बाद एक तरफ जहां दोनों को जिंदगियां उम्र से पहले उजड़ने से बच गयी. वहीं इस नाबालिक लड़कियों का शादी रोक दिया जाना इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।