धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

धनतेरस : कब खरीदें, क्या खरीदें, क्या नहीं खरीदें

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क। दीपावली के त्यौहार की धूम धनतेरस से ही शुरू हो जाती है। धनतेरस से पांच दिनों का पंच महोत्सव आरंभ हो जाता है। वर्ष भर में कोई भी खरीदारी करने का
यह सबसे शुभ दिन है। इस दिन खरीददारी को काफी शुभ माना जाता है। इस दिन शुभ मुहुर्त को छोड़कर अन्य समय पर अगर आपने कोई भी खरीददारी की तो अशुभ भी हो सकता है।
ज्योति पर्व शृंखला का आरंभ कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी यानी धन त्रयोदशी पर श्री समृद्धि की कामना से लक्ष्मी पूजन कर होता है। इस बार धनतेरस मंगलवार को है। इस दिन पूजन का विशेष मुहुर्त रात 7.21 से 9.17 बजे तक है। ज्योतिषाचार्य के अनुसार त्रयोदशी 16 अक्टूबर की रात 12.47 बजे लग गई जो 17 की रात 11.55 बजे तक रहेगी। ऐसे में तिथि विशेष पर रात 11.55 बजे तक पूजन अवश्य कर लेना चाहिए। इसके बाद तिथि चतुर्दशी लग जाएगी। धनतेरस के अवसर पर स्वर्ण- रजत आभूषण व बर्तन आदि स्थिर लक्ष्मी खरीदने की मान्यता है। इसके लिए क्रय मुहूर्त शाम चार से 7.21 बजे तक है।
बड़े-बुजुर्ग कहते हैं, धनतेरस के दिन शापिंग घर में शुभ लाभ लेकर आती है। धन के देवी-देवता लक्ष्मी-कुबेर प्रसन्न होते हैं और अपना आशीष बनाए रखते हैं। कुछ विद्वानों का मानना है सारा दिन ही मंगलसूचक होता है, कभी भी खरीदारी की जा सकती है। अन्य का मत यह भी है कि शुभ समय में की गई खरीदारी अधिक फल देती है।
इस समय न करें पूजा और खरीदारी
सायं 03.00 से 04.30 के बीच अशुभ मुहूर्त है।
पूजा और खरीदारी का शुभ मुहूर्त
शाम 07.30 से 09.00 बजे तक।
इन मंत्रों के जाप से कुबेर को करें खुश
ॐ ह्रीं कुबेराय नम:।
‘यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन-धान्य अधिपतये धन-धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा’।
लक्ष्मी मंत्र
कमलगट्टे हाथ में लेकर इस मंत्र का यथासंभव जाप करें।
मंत्र : ऐं ह्रीं श्रीं अष्टलक्ष्मीयै ह्रीं सिद्धये मम गृहे आगच्छागच्छ नम: स्वाहा।।
क्या आप जानते हैं इस दिन विशेष खरीदारी से इच्छाएं भी पूरी होती हैं
धन की इच्छा है तो पानी का नया बर्तन घर ले आएं।
कारोबार बढ़ाने के लिए धातु का दीपक खरीदें।
संतान से संबंधित किसी भी समस्या का हल करने के लिए थाली या कटोरी खरीदें।
उत्तम स्वास्थ्य और लंबी उम्र के लिए धातु से बनी घंटी खरीदें।
चीजें ना खरीदें
बेशक धनतेरस खरीदारी करने के लिए सर्वोत्‍तम महूर्त माना जाता है। इसके बावजूद कुछ चीजें हैं जिन्‍हें इस दिन ना खरीदें तो बेहतर है। जैसे काले रंग की चीजें खरीदने से इस दिन परहेज करें तो बेहतर होगा इसके साथ ही लोग इस दिन जूता, चप्पल भी इस दिन खरीदना पसंद नहीं करते। वैसे तो लोग दीवाली पर विलासिता के सामान भी खरीदते हैं, लेकिन यदि नशे के सामान और चोट पहुंचाने वाली घातक चीजें इस दिन ना खरीदें तो समाज और परिवार के लिए अच्छा होगा। वैसे भी जिस चीज से किसी को कष्ट हो उससे दूर रहने से त्योहार का आनंद दूगना हो जाता है।
धनतेरस पर खरीदते हैं ये चीजें
धनतेरस देवी लक्ष्मी की आराधना होती है जो धन की देवी हैं। इस दिन देवी को प्रसन्‍न करने के लिए नए कपड़ों और जेवर की खरीदारी करना अति उत्‍म होता है। कुछ स्थानों पर सात अनाजों से देवी की पूजा होती है, इसलिए इस दिन गेहूं, चना, जौ, उड़द, मूंग, मसूर जैसे अनाज भी खरीदना शुभ होता है। शुभ शगुन के रूप में सोने या चांदी के सिक्के भी खरीदने चाहिए।
दीवाली के दिन पूजा के लिए रखे जाने वाले गणेश लक्ष्मी की प्रतिमा भी इसी दिन खरीदी जाती है। आधुनिक दौर में लोग नया वाहन और बड़े इलेक्‍ट्रानिक आइटम भी इस दिन खरीदना पसंद करते हैं। वैसे सबसे ज्यादा प्रचलन और महत्व नये बर्तन खरीदने का होता है अत: इस दिन बर्तन खरीदना भी काफी शुभ माना जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।