धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 23 नवंबर 2017

मिशाल: घर में शौचालय बनाने को रुनकी देवी ने बेच डाला मंगलसूत्र और कान की बालियां

नव-बिहार न्यूज नेटवर्क: यह तो सर्व विदित ही है कि महिलाओं के लिए उनका मंगलसूत्र काफी मायने रखता है. लेकिन
बिहार की राजधानी पटना से लगभग 30 किलोमीटर दूर फतुहा के मोमिनपुर पंचायत में वरुणा गांव की रुनकी देवी ने घर में  शौचालय निर्माण के लिए अपना मंगलसूत्र और कनबाली (कान की बालियां) को बेच कर एक मिशाल कायम कर दिया.
दलित परिवार की रुनकी देवी को इस काम के लिए पति रामस्वरूप पासवान का बहुत विरोध झेलना पड़ा. पति ने 10 दिनों तक उनसे बात तक नहीं की लेकिन शौचालय का महत्व समझने के बाद आज वो खुश हैं.
रुनकी देवी के अनुसार घर में शौचालय नहीं होने से उन्हें और घर की बहू-बेटियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था. शौच के लिए अंधेरे का इंतजार करना पड़ता था. बरसात के दिनों में पानी में घुसकर शौच के लिए जाना पड़ता था.
रुनकी देवी के अनुसार एक दिन जीविका दीदी उनके गांव आई थी और उन्हें शौच (पेशाब) लग गया. लिहाजा उनको लेकर वो घर आ गई लेकिन घर में शौचालय नहीं होने के कारण बगल के घर में ले जाना पड़ा. इस बात से उन्हें काफी शर्म आई और फिर घर में शौचालय का निर्माण कराने की ठान ली.
इस संबंध में सबसे पहले रुनकी देवी ने पति रामस्वरुप से बात की लेकिन उन्होंने कहा कि पैसे नहीं है.  लेकिन घर में शौचालय निर्माण को लेकर अडिग रुनकी देवी फतुहा बाजार चली गई और मंगलसूत्र और कनबाली बेच दिया.
मंगलसूत्र और कनबाली बेच कर उन्हें 14 हजार के करीब रुपये मिले और उधर से ही ईंट, बालू और दूसरा सामान लेकर वह घर पहुंच गईं. इस बात से पति रामस्वरुप पासवान काफी नाराज हुए. उन्होंने कहा कि मंगलसूत्र बेचकर तुमने मुझे जीते जी मार दिया. हालांकि ससुर परशुराम पासवान ने उनका समर्थन किया.
रुनकी देवी के ससुर परशुराम पासवान के अनुसार बहू ने मंगलसूत्र बेच दिया तो घर से निकाल तो नहीं देंगे. बहू ने खुद ही शौचालय बनाने का फैसला किया है. लेकिन अब अच्छा लग रहा है क्योंकि घर की बहू और बेटी को बाहर नहीं जाना पड़ता है.
वरुणा गांव की आबादी लगभग 2 हजार है लेकिन आधे से ज्यादा घरों में अभी शौचालय नहीं है. रुनकी देवी की इस पहल से बाद गांव का माहौल बदलने लगा है और लोगों ने अपने घरों में शौचालय का निर्माण करवाना शुरू कर दिया है.
राजधानी पटना के फतुहा के एक छोटे से गांव की रहने वाली रुनकी देवी ने सुहाग की निशानी मंगलसूत्र और शादी के जेवर बेचकर शौचालय का निर्माण कराकर समाज के समक्ष एक नायाब उदाहरण पेश किया है. रुनकी देवी के इस साहसिक फैसले से प्रभावित होकर जिला प्रशासन ने रुनकी देवी को संपूर्ण स्वच्छता अभियान का ब्रांड एंबेसडर बनाने का भी निर्णय लिया है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।