धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

सोमवार, 2 अप्रैल 2018

ऐतिहासिक फैसला: गहरे प्यार के दौरान बना संबंध बलात्कार नहीं

बॉम्बे हाईकोर्ट की गोवा पीठ ने रेप के मामले में आज एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. हाईकोर्ट ने कहा कि गहरे प्यार के दौरान बनाए गए सेक्सुअल रिलेशन को रेप की संज्ञा नहीं दी जा सकती है. हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि जब दोनों के बीच ‘गहरे प्रेम संबंधों’ का प्रमाण मौजूद हो, तब ‘तथ्यों की गलत व्याख्या’ के आधार पर पुरुष को रेप का आरोपी नहीं माना जा सकता है. कोर्ट एक मामले की सुनवाई कर रहा था जिसमें एक व्यक्ति आरोप था कि उसने एक महिला के साथ शादी का वादा कर रेप किया.

5 साल पहले का है मामला

2013 के इस केस में योगेश पालेकर जो कि एक कसिनो में शेफ का काम करते थे, पर उसी कसिनो में काम करने वाली एक महिला ने शादी का वादा करके बलात्कार करने का आरोप लगाया था. स्थानीय अदालत ने योगेश को इसके लिए 7 साल जेल की सजा सुनाने के साथ 10 हजार रुपए का जुर्माना भरने को भी कहा था, लेकिन सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने आरोपी की सजा और जुर्माने को रद्द दिया.

महिला ने लगाया था रेप का आरोप

महिला ने आरोप लगाया था कि अपने घर वालों से मिलवाने के लिए योगेश उसे अपने घर ले गया, जहां उन दोनों के बीच संबंध बना. अगली सुबह योगेश ने कार से महिला को उनके घर पर छोड़ा. महिला के मुताबिक, इसके बाद भी योगेश ने उसके साथ तीन से चार बार संबंध बनाए.

हालांकि उसने महिला से यह कहते हुए शादी करने से इनकार कर दिया कि वह नीची जाति से है, जिसके बाद महिला ने आरोपी के खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज करा दी. महिला ने अपनी शिकायत में लिखा है कि वह संबंध बनाने पर राजी हुई क्योंकि पालेकर ने उससे शादी का वादा किया था. अदालत में सुनवाई के दौरान यह बात भी सामने आई कि महिला ने पालेकर को आर्थिक तौर पर भी मदद करती थी.

कोर्ट ने सजा और जुर्माना दोनों हटाए

जस्टिस सी. वी. भदांग ने पाया कि दोनों के बीच सहमति केवल पालेकर के वादों पर ही नहीं बनी, बल्कि उनकी आपसी सहमति से बनी. महिला ना केवल पालेकर को आर्थिक सहायता देती थी, बल्कि गोवा में डिप्रेशन का इलाज कराने की वजह से उसने अपनी शिकायत भी वापस ले ली. कोर्ट ने इन सबके आधार पर कहा कि यह रेप नहीं बल्कि दोनों के बीच प्यार का संबंध था. कोर्ट ने 2013 के इस मामले में आदेश देते हुए आरोपी की सजा और जुर्माने को हटा दी है.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।