धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

रविवार, 19 अगस्त 2018

केरल में आयी भीषण आपदा, बारिश से मरने वालों की संख्या 324 से भी ज्यादा

केरल में इस साल अभी तक जो बारिश हुई है वह 2013 की उत्‍तराखंड आपदा, 2016 की असम बाढ़ व 2017 की बिहार बाढ़ से दुगुनी और 2017 की गुजरात बाढ़ से तिगुनी है. केरल में एक जून से 15 अगस्‍त के बीच 2086 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है जो कि सामान्‍य से 30 प्रतिशत ज्‍यादा है. इस बारिश के बाद बाढ़ और भूस्‍खलन की वजह से 324 लोग मारे जा चुके हैं. यह आंकड़ा बढ़ने की आशंका है.

राज्‍य में पिछले सप्‍ताह सामान्‍य से साढ़े तीन गुना ज्‍यादा बरसात हुई जबकि 16 अगस्‍त को 10 गुना और शुक्रवार 17 अगस्‍त को औसत से पांच गुना ज्‍यादा बारिश हुई. इसके चलते राज्‍य में सब कुछ ठप हो गया. 2013 में उत्‍तराखंड में बादल फटने की वजह से भयानक बाढ़ आई और भूस्‍खलन हुआ. वहां पर पूरे मानसून में जुलाई से सितम्‍बर के बीच 1373 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी जिसकी वजह से 5700 लोग मारे गए थे.

पिछले साल 25 जुलाई को देश के कई राज्‍यों में बाढ़ आई थी और अकेले गुजरात में 222 लोग मारे गए थे. गुजरात में 646 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई थी. बिहार के 19 जिलों में 12 से 20 अगस्‍त 2017 के दौरान गंडक, बूढ़ी गंडक, बागमती, कमला, कोसी और महानंदा नदियों में पानी बढ़ने से 514 लोग मारे गए थे. साथ ही 1.71 करोड़ लोग इससे प्रभावित हुए थे.

केरल में यह एक सदी की सबसे भयंकर बाढ़ है. साथ ही अभी इससे राहत मिलती नहीं दिख रही क्‍योंकि मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी कर रखी है. पुणे स्थित इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ ट्रॉपिकल मीटिओरॉलॉजी संस्‍थान की ओर जारी एक रिपोर्ट में कहा गया था कि भारत में 1950 से 2017 के दौरान 285 बार बाढ़ आई. इनके चलते साढ़े आठ करोड़ रुपये लोग प्रभावित हुए और 19 लाख बेघर हो गए. इन त्रासदियों में 71 हजार लोग मारे गए.

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।