धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

मंगलवार, 21 अगस्त 2018

खेल: लखनऊ की चक्की में है काफी दम- विनेश फोगाट

स्वर्ण पदक जीतने के बाद जकार्ता के खेल गांव में भारतीय खेमे में जोश भर गया। भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने मिठाइयां बांटीं। जब विनेश फोगाट से बात हुई तो उनसे पूछा ‘बेहतरीन कुश्तियां लड़ीं। अजेय रहते हुए स्वर्ण पदक जीता। इतना शानदार प्रदर्शन...कौन सी चक्की का आटा खाती हैं आप...?’ उनका जवाब था कि ‘लखनऊ की  चक्की का।’

यूं तो लखनऊ के साईं सेंटर में ट्रेनिंग करने वाली सभी महिला पहलवान की खुराक संतुलित होती है लेकिन विशन अपने भोजन पर खास ध्यान देती हैं। सेंटर की न्यूट्रीशियनिस्ट डा. पायल बताती हैं कि विनेश 50 किलोग्राम भार वर्ग की पहलवान हैं। इसलिए नपातुला ही खाती हैं। उनकी खुराक में ड्राई फ्रूट्स, अण्डे, दूध, दही, पनीर, मांस, इनर्जी ड्रिंक, सप्लीमेंट, शहद आदि शामिल हैं। विनेश भाप में पकी सब्जियां खाती हैं। इसमें ब्रोकली, बीन्स, गाजर, चुकन्दर और सीजरन सब्जियां शामिल हैं। उन्होंने बताया कि मांसपेशियों के लिए भोजन की प्रोटीन की ज्यादा जरूरत रहती है। रिकवरी से नीबू-पानी का ज्यादा इस्तेमाल करती हैं। हड्डियों के लिए दूध-दही और शहद खाती हैं।

इस बार भी चोटिल हुईं
विनेश फोगाट भारतीय टीम की ऐसी पहलवान हैं जिनसे सबको पदक की उम्मीद रहती है। पर कुछ इत्तेफाक ऐसा रहता है कि बड़े मौकों पर उनके कहीं न कहीं चोट लग जाती है। रियो ओलंपिक में सभी को उनसे स्वर्ण की उम्मीद थी। पर पहली बाउट में चोट लग जाने से वह बाहर हो गईं। राष्ट्रमण्डल खेल में जाने से पहले ट्रेनिंग के दौरान उनके पेट में चोट लग गई थी। वह राष्ट्रमण्डल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर लौटीं। जकार्ता एशियाई खेल में भी सेमीफाइनल में उनके चोट लग गई लेकिन उन्होंने इससे उबरते हुए स्वर्ण पदक जीता।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।