धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

रविवार, 18 नवंबर 2018

अक्षय नवमी पर किया गया हर आध्यात्मिक कार्य हमेशा अक्षय रहता है- स्वामी आगमानंद

नव-बिहार समाचार, नवगछिया (भागलपुर)। कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को अक्षय नवमी कहा जाता है। इस दिन किया गया कोई भी आध्यात्मिक कार्य हमेशा अक्षय रहता है। इस दिन आंवला वृक्ष के नीचे विशेष पूजन और व्रत का विधान है। इसलिए इसे आंवला नवमी भी कहा जाता है। इसे मातृ नवमी और धातृ नवमी भी इसलिए कहा जाता है कि जिस प्रकार माता के दूध में पौष्टिक तत्व होते हैं उसी प्रकार से आंवला में भी पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं। इस दिन आंवला वृक्ष के नीचे सभी देवी और देवता भी उपस्थित रहते हैं तथा वहां सभी की मनोकामना भी पूर्ण होती है।

उपरोक्त बातें श्रीशिवशक्ति योगपीठ के पीठाधीश्वर परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज ने शनिवार को आंवला नवमी के मौके पर श्रीशिवशक्ति योगपीठ के आश्रम में कही। जहां इस मौके पर एक दिन पहले से ही मंगल आरती, वेद पाठ, दुर्गा सप्तशती पाठ, हनुमान चालीसा पाठ, रामायण पाठ इत्यादि का कार्यक्रम चल रहा है।

अक्षय नवमी के मौके पर शनिवार को श्रीशिवशक्ति योगपीठ नवगछिया आश्रम में सैकड़ों श्रद्धालुओं ने परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज से गुरु दीक्षा भी ग्रहण की। अक्षय नवमी के इस मौके पर जहां श्रीगणेश वंदना के साथ भजन संध्या का कार्यक्रम भी आयोजित हुआ। इस दौरान राजाराम जी, गुलशन कुमार, माधवानंद जी के अलावा आकाशवाणी के गायक बलवीर सिंह बग्घा ने भी अपनी प्रस्तुति दी। वहीं व्यास पीठ से आचार्य पंकज जी, चंद्रकांत जी, पंकज शास्त्री, प्रेमशंकर भारती, मानवानंद जी और दीपक मिश्रा तथा पंडित शंकर मिश्र नाहर के बाद परमहंस स्वामी आगमानंद जी महाराज ने श्रद्धालुओं को आशीर्वचन दिया।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।