धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 12 दिसंबर 2019

कॉलेजों को वोकेशनल कोर्स चलाने के लिए विषयवार मानकों को करना होगा पूरा

विश्वविद्यालय के कॉलेजों को वोकेशनल कोर्स चलाने के लिए विषयवार मानकों को पूरा करना होगा। नए वाकेशनल कोर्स को चलाने के लिए भी इन शर्तों को पूरा करना होगा। इसके लिए राजभवन ने छह कुलपतियों की कमेटी बनाई है। 

इन छह कुलपतियों की कमेटी ने वोकेशनल कोर्स खासकर बीबीए, बीसीए आदि के लिए मानक बनाया है। इन मानक के तैयार होने के बाद अन्य विवि के अलावा टीएमबीयू से भी मंतव्य मांगा गया है। इसपर टीएमबीयू को यह भी रिपोर्ट भेजनी है कि किन कॉलेजों में कौन कोर्स चलते हैं और वह मानकों को कितना पूरा करते हैं।

टीएमबीयू ने इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए एक कमेटी भी बनाई है। बीसीए और बीआईटी के लिए तीन व्यक्ति डॉ. आशुतोष प्रसाद, कॉलेज इंस्पेक्टर साइंस डॉ. रंजना दुबे और डॉ. कमल प्रसाद, बीबीए के लिए डीन कॉमर्स डॉ. केसी झा, इंस्पेक्टर ऑफ कॉलेज आर्ट्स ऑन कॉमर्स डॉ. सरोज राय कमेटी में शामिल हैं। 

नए मानकों के अनुसार वोकेशनल कोर्स को चलाने के लिए कॉलेज के भवन में नहीं, बल्कि अलग से जमीन और भवन होना चाहिए। बच्चों की न्यूनतम संख्या 60 हो और उसी अनुसार शिक्षकों ऑर कर्मचारियों की भी संख्या निर्धारित हो। कॉलेज से अलग इन कोर्स के लिए सुविधाएं होनी चाहिए। जानकारी हो कि बीसीए का कोर्स टीएनबी, मारवाड़ी, एसएम, एसएसबी कॉलेज कहलगांव और जीवी कॉलेज नवगछिया में चलता है। वहीं बीबीए का कोर्स मारवाड़ी और एसएम कॉलेज में चलता है। इसके अलावा अन्य कई वोकेशनल कोर्स टीएमबीयू में चल रहे हैं।

पुराने कॉलेजों को दो साल का मौका
पुराने कॉलेज में वोकेशनल कोर्स पहले से चल रहा है। उन कॉलेजों को मानकों को पूरा करने के लिए दो साल का मौका दिया जाएगा। यदि दो साल में वे मानक पूरा नहीं करेंगे तो कोर्स की मान्यता समाप्त की जा सकती है, लेकिन नए कॉलेजों को यदि कोई वोकेशनल कोर्स चलाना है तो उन्हें इन मानकों को हर हाल में पूरा करना होगा। सीसीडीसी प्रो. केएम सिंह ने कहा कि वोकेशनल कोर्स की गुणवत्ता को और सुधारने के लिए ये मानक बनाए गए हैं, ताकि वोकेशनल कोर्स करने वाले छात्रों को पढ़ाई के बाद बेरोजगार नहीं बैठे।                       

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।