धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

शनिवार, 29 फ़रवरी 2020

खुशखबरी: परेशानी का सबब बने फ्लाई ऐस से भी अब बनेगी बिजली



नव-बिहार समाचार, (भागलपुर)। देश के सभी नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एनटीपीसी) के लिए परेशानी के सबब बने फ्लाई ऐस (बिजली उत्पादन के लिए प्रयोग में लाए जाने वाला कोयले की राख) से भी अब बिजली तैयार हो सकेगी। इस बिजली से लोगों के घर भी रोशन होंगे। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) के कुलपति प्रो. अवध किशोर राय के नेतृत्व में पीजी बॉटनी विभाग के वैज्ञानिकों की टीम ने इस परेशानी का सफल तोड़ निकाल लिया है।

इसके लिए पहले फ्लाई ऐश को वर्मी कंपोस्ट (खाद) में बदला गया। जिससे सफल तरीके से बिजली उत्पन्न की गई। इस पर आगे का भी प्रयोग चल रहा है। बिजली तैयार करने के लिए पहले फ्लाई ऐश को वर्मी कंपोस्ट में बदला जाएगा। इसके पूरा होने के बाद एक गमले में आठ किलो वर्मी कंपोस्ट से 1.5 वोल्ट बिजली पैदा की गई। वर्मी कंपोस्ट में एनोड, केथोड और जिंक प्लेट लगाने पर बिजली तैयार हुई।

ईंट के पिट में 25 प्रतिशत फ्लाई ऐश, 25 प्रतिशत गारबेज और 50 प्रतिशत गाय का गोबर का प्रयोग होता है। इस मिश्रण के घुलने के बाद इसमें केंचुए को मिलाया जाता है। वैज्ञानिक किसलय कुमारी ने बताया कि फ्लाई ऐश में हेवी मेटल्स होते हैं। जिससे कई तरह की गंभीर बीमारियां होती है। किंतु केंचुआ इस मेटलस को अवशोषित कर लेता है। इस विधि द्वारा वर्मी कंपोस्ट तैयार किया गया।

वैज्ञानिक मनीष के मुताबिक फ्लाई ऐश से तैयार वर्मी कंपोस्ट का प्रयोग दो-तीन वर्षों से कई सब्जियों पर किया गया है। जिसमें गोभी, प्याज, मेथी, धनिया शामिल हैं। 2019 से भिंडी पर इसका प्रयोग चल रहा है। फ्लाई ऐश से बने वर्मी कंपोस्ट में मिलने वाले कुछ हानिकारक तत्वों की मात्रा को वैज्ञानिक तरीके से कम किया गया है। इस बात पर शोध जारी है कि बिजली उत्पादन के लिए प्रयोग में आने वाला वर्मी कंपोस्ट किसानों को किस फसल की पैदावार में सबसे ज्यादा फायदा दे सकती हैं।

अभी इसका शोध प्रोजेक्ट भागलपुर के कहलगांव एनटीपीसी में लगा हुआ है। टीएमबीयू के पीजी बॉटनी विभाग के वैज्ञानिकों डॉ. रंजन कुमार मिश्रा, किसलय कुमारी, मनीष कुमार ने इससे संबंधित प्रेजेंटेशन गुजरात में हुए राष्ट्रीय स्तर के अन्वेषण में दिया था। इसका प्रयोग 2015 से ही प्रयोग शुरु हो गया था। विभागाध्यक्ष प्रो. सुनील कुमार चौधरी इसके प्रोजेक्ट इंचार्ज हैं। फ्लाई ऐश से बना वर्मी कंपोस्ट पूरी तरह इको फ्रेंडली है।

कहलगांव एनटीपीसी में अकेले प्रतिदिन 15 हजार मिट्रिक टन राख निकलता है। यहां 11 सौ एकड़ भू-भाग में फ्लाई ऐश डंप किया हुआ है। टीएमबीयू के कुलपति सह वैज्ञानिक पीजी बॉटनी विभाग प्रो अवध किशोर राय के अनुसार फ्लाई ऐश को सफलतापूर्वक वर्मी कंपोस्ट में बदल कर इससे बिजली पैदा करने का भी प्रयोग सफलतापूर्वक किया गया है। बड़े स्तर पर इस पर और शोध की जरूरत है। तभी हम बड़े स्तर पर बिजली तैयार कर सकते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।