धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

गुरुवार, 5 मार्च 2020

सैदपुर के स्वतंत्रता सेनानी दिनेश बाबू का निधन, अंतिम संस्कार आज

नव-बिहार समाचार, नवगछिया (भागलपुर)। अनुमंडल के गोपालपुर प्रखण्ड अंतर्गत सैदपुर निवासी स्वतंत्रता सेनानी दिनेश बाबू का निधन बुधवार की दोपहर को लंबी बीमारी के कारण अपने पैतृक आवास पर हो गया।वे 96 वर्ष के थे। वे अपने पीछे दो पुत्र अमरेंद्र कुवर, नवीन चंद्र कुवर और प़ोते पटना हाई कोर्ट अधिवक्ता मुकेश कुमार ,चंदन कुमार सहित भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। परिजनों के अनुसार दिनेश बाबू का अंतिम संस्कार गुरुवार को लगभग 10 बजे गंगा नदी किनारे स्पर संख्या 5n2 पर किया जायेगा।

उनके मौत की खबर मिलते ही उनके पार्थिव शरीर का दर्शन करने ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। बताते चलें कि दिनेश बाबू का जन्म सैदपुर के जमीनदार परिवार स्व संतलाल बाबू के घर 1924 ई में हुआ था। जमीनदार परिवार में जन्म लेने के बावजूद वे जीवन की आखिरी साँस तक गरीबों की लड़ाई लड़ते रहे। 1942 में महात्मा गाँधी के भारत छोडों आन्दोलन के दौरान टीएनबी कॉलेजियेट स्कूल से दसवीं की पढाई छोड कर भारत माँ को आजाद कराने के संघर्ष में रम गये। परन्तु स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद सरकार द्वारा स्वतंत्रता सेनानी पेंशन लेने से इन्कार कर दिया। जीवन भर सामाजिक कार्यों व दबे कुचले लोगों की मदद में लगे रहे। सैदपुर सहित आसपास के दर्जनों गाँवों को बाढ़ से बचाने हेतु 1979 ई में अपने निजी कोष से अभिया से लेकर बिंद टोली तक जमीनदारी बाँध का मरम्मत करवाया। तिनटंगा करारी -कहलगाँव फेरी जहाज घाट को लंबी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद पटना हाईकोर्ट से तिनटंगा करारी घाट को सरकारी घोषित करवा कर सरकार द्वारा डाक करवाने में सफलता हासिल किया। उक्त घाट कहलगाँव के सरयुग चौधरी को मुगल बादशाह से दान में मिला था। जिस कारण गंगा नदी पर सरयुग चौधरी का अधिकार था।

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।