धन्यवाद

*** *** नवगछिया समाचार अब अपने विस्तारित स्वरूप "नव-बिहार समाचार" के रूप मे प्रसारित हो रहा है, आपके लगातार सहयोग से ही पाठकों की संख्या लगातार बढ़ते हुए 10 लाख को पार कर चुकी है,इसके लिए आपका धन्यवाद। *** नव-बिहार समाचार के इस चैनल में अपने संस्थान का विज्ञापन, शुभकामना संदेश इत्यादि के लिये संपर्क करें राजेश कानोडिया 9934070980 *** ***

मंगलवार, 26 मई 2020

लॉकडाउन के दौरान : मध्यमवर्ग की मार्मिक दास्तान


ऐसा_लग रहा है कि  देश में सिर्फ मजदूर ही रहते हैं....बाकी क्या काजू किसमिस बघार रहे हैं ?🙁

अब मजदूरों का रोना- धोना बंद कर दीजिये ,मजदूर घर पहुंच गया तो ..उसके परिवार के पास मनरेगा का जाब कार्ड , राशन कार्ड होगा...🙁

सरकार_मुफ्त में चावल व आटा दे रही है जनधन खाते होंगे तो मुफ्त में  2000 रु.  भी मिल गए होंगे,और आगे भी मिलते रहेंगे...🙁

अब_जरा उसके बारे में सोचिये..जिसने लाखों रुपये का कर्ज लेकर प्राइवेट कालेज से इंजीनियरिंग  किया था ..और अभी कम्पनी में 5 से 8 हजार की नौकरी पाया था ( मजदूरों को मिलने वाली मजदूरी से भी कम ), लेकिन मजबूरीवश अप टू डेट की तरह रहता था...🙁

जिसने अभी अभी नयी नयी वकालत शुरू की थी ..दो -चार साल तक वैसे भी कोई केस नहीं मिलता ! दो -चार साल के बाद ..चार पाच हजार रुपये महीना मिलना शुरू होता है , लेकिन मजबूरीवश वो भी अपनी गरीबी का प्रदर्शन नहीं कर पाता,और चार छ: साल के बाद.. जब थोड़ा कमाई बढ़ती है, दस पंद्रह हजार होती हैं तो भी..लोन वोन लेकर घर खरीदने की मजबूरी आ जाती है बड़ा आदमी दिखने की मजबूरी जो होती है।अब घर की किस्त भी तो भरना है ?🙁
 

उसके बारे में भी सोचिये..जो सेल्स मैन , एरिया मैनेजर का तमगा लिये घूमता था। बंदे को भले ही आठ  हज़ार   रुपए महीना मिले, लेकिन कभी अपनी गरीबी का प्रदर्शन नहीं किया...🙁
 
उनके बारे में भी सोचिये जो बीमा ऐजेंट , सेल्स एजेंट बना मुस्कुराते हुए घूमते थे। आप कार की एजेंसी पहुंचे नहीं कि कार के लोन दिलाने से ले कर कार की डिलीवरी दिलाने तक के लिये मुस्कुराते हुए , साफ सुथरे कपड़े में , आपके सामने हाजिर..🙁

बदले में कोई कुछ हजार रुपये ! लेकिन अपनी गरीबी का रोना नहीं रोता है।आत्म सम्मान के साथ रहता है।
मैंने संघर्ष करते वकील , इंजीनियर , पत्रकार , ऐजेंट , सेल्समेन , छोटे- मंझोले दुकान वाले, क्लर्क , बाबू , स्कूली मास्टसाब, धोबी, सलून वाले, आदि देखे हैं ..अंदर भले ही चड़ढी- बनियान फटी हो,मगर  अपनी गरीबी का प्रदर्शन नहीं करते हैं...🙁

और इनके पास न तो मुफ्त में चावल पाने वाला राशन कार्ड है , न ही जनधन का खाता , यहाँ तक कि गैस की सब्सिडी भी छोड़ चुके हैं ! ऊपर से मोटर साइकिल की किस्त , या घर की किस्त ब्याज सहित देना है...🙁

बेटी- बेटा की एक माह की फीस बिना स्कूल भेजे ही इतनी देना है, जितने में दो लोगों का परिवार आराम से एक महीने खा सकता है , परंतु गरीबी का प्रदर्शन न करने की उसकी आदत ने उसे सरकारी स्कूल से लेकर सरकारी अस्पताल तक से दूर कर दिया है..🙁

ऐसे ही टाईपिस्ट , स्टेनो , रिसेप्सनिस्ट ,ऑफिस बॉय जैसे लोगो का वर्ग है। अब ऐसा वर्ग क्या करे ?वो तो..फेसबुक पर बैठ कर अपना दर्द भी नहीं लिख सकता है गरीब आदमी नहीं दिखने की मजबूरी जो है...🙁

ऐसा ही एक वर्ग मंदिर देवालयों में और गृहस्थों के घर जाकर पूजा पाठ कर अपनी आजीविका चलाने वाले ब्राह्मणों का है , मंदिरों में लाकडाऊन के चलते भक्तों की उपस्थिति भी नगण्य है , आरती में चढ़ावा ही नहीं मंदिर ट्रस्ट भी मानदेय नहीं के बराबर ही देते हैं... और दुनिया को वैभव का आशीर्वाद देने वाले के बच्चे सामान्य जीवन को तरसते हैं उनका दर्द किसी की दृष्टि में नहीं..🙁 

तो मजदूर की त्रासदी का विषय मुकाम पा गया है..मजदूरो की पीड़ा का नाम देकर ही अपनी ही पीड़ा व्यक्त कर रहा है ?...🙁

क्या पता है हकीकत आपको ? IAS , PSC का सपना लेकर रात- रात भर जाग कर पढ़ने वाला छात्र तो बहुत पहले ही  दिल्ली व इंदौर से पैदल निकल लिया था..अपनी पहचान छिपाते हुये ..मजदूरों के वेश में ? 
क्यूं वो अपनी गरीबी व मजबूरी की दुकान नहीं सजाता ! 
काश! कि देश का मध्यम वर्ग ऐसा कर पाता?...🙁

असहमति का स्वागत है...🙁🍁®️🍁

सरकार ने अपनी , कमाई के सब साधन खोल दिया है ,
1. दारू चालू ,
2. गुटका चालू ,
3. पेट्रोल पंप चालू (पूरी रेट पर)
4. RBI and  bank  ब्याज चालू ,
5.ऑनलाइन मार्केट चालू ,
6. डीडी नेशनल चालू ,
7. सभी विभाग के टैक्स चालू (भूमि कर , लाइसेंस फीस)
8. लाईट बिल चालू ...🙁

#गरीब के लिए सब फ्री जो कभी टैक्स नहीं देता
1. कारोना टेस्ट फ्री
2. राशन फ्री
3. दाल फ्री
4. मनरेगा चालू (नई दर के साथ)
5. गैस फ्री
6. बिना काम के मजदूरी चालू....🙁🍁

मध्यम वर्ग सभी जगह दबता चल क्यों की तू पैदा ही ऐसे देश में हुआ है
1. सरकार को बिल का भुगतान कर
2. बच्चो की स्कूल फीस भर
3. सभी लाइसेंस फीस भर
4. दुकान, उद्योग पर कर्मचारी को बिना काम तंखा दे.
5. बिना दुकान खोले, किराया, लाईट बिल दे.
6. बैंक को पूरा ब्याज दे नहीं दिया तो अतिरिक्त भार झेल.
7. सरकार को दान दे.
8. आसपास के जरूरत मन्द को भोजन समान दे.
9. तेरी बचत पर ब्याज कम कर दिया है.
10. धंधा करना है तो सरकार के नियम की पालन  कर...🙁
®️
चालीस दिन सरकार के पास टैक्स नही आया तो सरकार वेतन नही दे पा रही और मिडिल क्लास मध्यमवर्ग के पास पेड़ लगा हुआ है जो टैक्स भी दे,किराया भी दे,सैलरी भी दे, स्कूल की फीस भी दे और अपने घर परिवार की भी पाले...🙁

जिसको 👆🏼 मैसेज सही समझ में आये तो पूरे देश में पहुचाइये मिडिल क्लास मध्यमवर्ग को पहुंचाए...🙁
😷🍁®️🍁😷
असहमति का स्वागत है

साभार- शैलेंद्र सिंह

कोई टिप्पणी नहीं:

CURRENT NEWS

ताजा समाचार प्राप्त करने के लिये अपना ई मेल पता यहाँ नीचे दर्ज करें

संबन्धित समाचार

आभारनवगछिया समाचार आपका आभारी है। आपने इस साइट पर आकर अपना बहुमूल्य समय दिया। आपसे उम्मीद भी है कि जल्द ही पुनः इस साइट पर आपका आगमन होगा।

Translatore

आभार

नवगछिया समाचार में आपका स्वागत है| नवगछिया समाचार के लिए मील का पत्थर साबित हुआ 24 नवम्बर 2013 का दिन। यह वही दिन है जिस दिन नवगछिया अनुमंडल की स्थापना हुई थी 1972 में। यह वही दिन है जिस दिन आपके इस चहेते नवगछिया समाचार ई-पेपर के पाठकों की संख्या लगातार बढ़ कर दो लाख हो गयी। नवगछिया, भागलपुर के अलावा बिहार तथा भारत सहित 54 विभिन्न देशों में नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों का बहुत बहुत आभार | जिनके असीम प्यार की बदौलत नवगछिया समाचार के लगातार बढ़ते पाठकों की संख्या 20 मई 2013 को एक लाख के पार हुई थी। जो 24 नवम्बर 2013 को दो लाख के पार हो गयी थी । अब छः लाख सत्तर हजार से भी ज्यादा है। मित्र तथा सहयोगियों अथवा साथियों को भी इस इन्टरनेट समाचार पत्र की जानकारी अवश्य दें | आप भी अपने क्षेत्र का समाचार मेल द्वारा naugachianews@gmail.com पर भेज सकते हैं।